ऐम्पियर सेकण्ड किसका मात्रक है? | ampere second kiska matrak hai

ऐम्पियर सेकण्ड किसका मात्रक है?

ऐम्पियर सेकण्ड आवेश का मात्रक होता है जिसे कूलॉम कहा जाता है।
ampere-second-kiska-matrak-hai

विद्युत धारा (Electric current)

  • विद्युत धारा एक प्रकार से विद्युत आवेशों का प्रवाह है। ठोस चालकों में इलेक्ट्रॉनों के प्रवाह के कारण तथा तरलों में आयनों के साथ इलेक्ट्रॉनों के प्रवाह के कारण विद्युत धारा बनती है।
  • विद्युत धारा का SI मात्रक एंपियर (A) होता है। 1 एंपियर विद्युत धारा प्रति सेकेंड एक कूलॉम आवेश के प्रवाह के बराबर होती है।
  • किसी विद्युत धारा प्रवाहित करने वाले चालक के सतत एवं बंद पथ को परिपथ (Circuit) कहते हैं।
  • किसी परिपथ में प्रवाहित विद्युत धारा मापने के लिये ऐमीटर नामक यंत्र का उपयोग करते हैं।
  • एमीटर को परिपथ में सदैव श्रेणीक्रम में जोड़ते हैं।

विद्युत धारा के प्रकार (Kinds of electric current)

  • दिष्ट धारा (Direct current): यदि किसी परिपथ (Circuit) में प्रवाहित धारा की दिशा में कोई परिवर्तन न हो अर्थात् धारा एक ही दिशा में गतिमान रहे तो इसे हम दिष्ट धारा (D.C) कहते हैं।
  • प्रत्यावर्ती धारा (Alternative current): यदि किसी परिपथ में धारा की दिशा लगातार बदलती है अर्थात् धारा का प्रवाह एकांतर क्रम में समांतर रूप से आगे और पीछे होता रहता है तो ऐसी धारा को हम प्रत्यावर्ती धारा (A.C) कहते हैं।
घरों में विद्युत की सप्लाई प्रत्यावर्ती धारा के रूप में ही की जाती है।
Note: प्रत्यावर्ती धारा (A.C) को दिष्ट धारा (D.C) में तथा दिष्ट धारा (D.C) को प्रत्यावर्ती धारा (A.C) में बदला जा सकता है।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post