तुगलक वंश (1320-1414) (Tughlaq Dynasty) | tuglak vansh

तुगलक वंश (1320-1414)

गाज़ी मलिक अथवा गाज़ी तुगलक ने सन् 1320 ई. में तुगलक वंश की नींव रखी तथा गयासुद्दीन तुगलक के नाम से दिल्ली सल्तनत का सुल्तान बना। सल्तनत के इतिहास में तुगलक वंश के शासकों ने ही सबसे अधिक सन् 1320 ई. से 1414 ई. तक अर्थात् 94 वर्ष तक शासन किया।
खिलजियों के बाद दिल्ली सल्तनत के स्वामी तुगलक बने। तुगलकों ने सबसे अधिक समय तक शासन किया (1320-1414 ई.)। इस वंश के प्रमुख शासक गयासुद्दीन तुगलक, मुहम्मद तुगलक और फिरोज तुगलक थे।
tuglak-vansh-tughlaq-dynasty
तुगलकों ने जहां एक तरफ सैनिक विजयों द्वारा साम्राज्य की सीमा का विस्तार किया, वहीं प्रशासनिक सुधारों पर भी ध्यान दिया । उनके समय में सल्तनत की शक्ति एवं समृद्धि में वृद्धि हुई, परंतु इसके साथ ही सल्तनत के विघटन की प्रक्रिया भी आरंभ हो गई। तुगलक वंश का संस्थापक गाजी मलिक या गाजी गयासुद्दीन तुगलक था। वह 'करौना' तुर्क शाखा का था। तुगलक उसकी उपाधि थी।

गयासुद्दीन तुगलक : (1320-1325 ई.)

अमीर खुसरो के प्रसिद्ध ग्रंथ तुगलकनामा से गयासुद्दीन के कार्यों पर प्रकाश पड़ता है। उसके पूर्वज तुर्किस्तान से भारत आए थे। जन्म से गयासुद्दीन भारतीय था। उसकी माता एक जाट स्त्री थी। उसका आरंभिक नाम गाजी मलिक या गाजी तुगलक था। अलाउद्दीन और मुबारकशाह के समय में उसकी शक्ति, सैनिक प्रतिभाओं के चलते बहुत अधिक बढ़ गई थी।
tughlaq-dynasty-tuglak-vansh
अलाउद्दीन ने उसे दीपालपुर का सूबेदार एवं मुबारकशाह ने उत्तर-पश्चिम सीमाप्रांत का प्रमुख गवर्नर बनाया। मंगोलों पर नियंत्रण करने से उसकी प्रतिष्ठा बढ़ गई। खुसरो (खुसरवशाह) इस बीच में मुबारकशाह की हत्या कर स्वयं गद्दी पर बैठ चुका था। परंतु खुसरवशाह अमीरों का समर्थन प्राप्त नहीं कर सका।
गाजी मलिक एवं उसके पुत्र जूना खां ने इस परिस्थिति का लाभ उठाकर गद्दी हथियाने की योजना बनाई। इन दोनों ने सीमांत प्रदेश, मालवा, उच्छ तथा सिविस्तान के शासकों तथा खोखरों के सहयोग से दिल्ली पर आक्रमण करने की योजना बनाई, परंतु कुछ तुर्क सरदारों के विरोध के कारण उन्हें यह योजना स्थगित कर देनी पड़ी।
खुसरवशाह को खतरे का आभास हो गया अतः उसने सेना की एक टुकड़ी गाजी मलिक के विरूद्ध भेजी। इसे विफल होकर वापस आना पड़ा। खुसरो दूसरी सेना के साथ दीपालपुर की तरफ बढ़ा। गाजी मलिक भी दिल्ली पर आक्रमण करने आ रहा था। इंद्रप्रस्थ के निकट गाजी मलिक से युद्ध करता हुआ खुसरवशाह मारा गया। विजयी गाजी ने दिल्ली में प्रवेश कर सितंबर 1320 ई. में सल्तनत पर अधिकार कर लिया और गयासुद्दीन तुगलक शाह गाजी की उपाधि धारण की।

गयासुद्दीन तुगलक के बारे में प्रमुख तथ्य

  • गयासुद्दीन तुगलक खुसरो खाँ को पराजित कर सुल्तान बना था। गयासुद्दीन तुगलक दिल्ली का प्रथम शासक था जिसने गाज़ी (काफिरों का घातक) की उपाधि धारण की।
  • शासक बनने से पूर्व वह सीमांत क्षेत्र का सूबेदार था तथा मंगोल आक्रमणकारियों से सल्तनत की सुरक्षा की थी। मंगोलों को पराजित करने के कारण ही वह मलिक-उल-गाज़ी के नाम से प्रसिद्ध हुआ।
  • सुल्तान बनने के साथ ही गयासुद्दीन तुगलक के समक्ष कई समस्याएँ थीं। एक ओर जहाँ विभिन्न प्रांतों में विद्रोह हो रहे थे, वहीं दूसरी ओर बंगाल-सिंध पर नाममात्र का शासन रह गया था तथा दक्षिण के राज्य अपनी स्वतंत्रता घोषित कर रहे थे।
  • खुसरो खाँ द्वारा अमीरों, उलेमाओं एवं सूफियों आदि को संतुष्ट करने के लिये काफी मात्रा में दान दिया गया था जिससे वित्तीय स्थिति खराब हो गई थी।
  • गयासुद्दीन ने उन अवैध अनुदानों और जागीरों को जब्त कर लिया तथा सभी को धनराशि वापस खज़ाने में जमा कराने का आदेश दिया जो खुसरो खाँ ने मनमाने रूप से दी थी।
  • उसने दिल्ली के प्रसिद्ध सूफी संत निजामुद्दीन औलिया से भी दान में दिये धन को लौटाने का आदेश दिया, परंतु उन्होंने यह कहकर धन लौटाने से मना कर दिया कि धन समाज की भलाई में खर्च हो गया।
  • गयासुद्दीन एक कुशल सेनापति था, उसने अलाउद्दीन के घोड़े को दागने तथा सेना के हुलिया आदि सुधारों को कठोरता से लागू किया।
  • उसने आर्थिक सुधारों के तहत खुत, मुकद्दम, चौधरी के पुराने अधिकार पुनः लौटा दिये, लगान वसूली की मसाहत पद्धति को त्यागकर बटाई पद्धति को पुनः लागू किया, भू-राजस्व की दर 1/3 कर दी।
  • सिंचाई के लिये नहरों का निर्माण किया। ऐसा करने वाला गयासुद्दीन तुगलक सल्तनत का प्रथम सुल्तान था। उसने यातायात व्यवस्था को व्यवस्थित किया तथा डाक प्रणाली को भी मज़बूत किया। इसके काल में डाक व्यवस्था सर्वोच्च थी।
  • उसने राजस्व वसूली की इज़ारेदारी व्यवस्था एवं ठेकेदारी व्यवस्था पर पूर्णत: रोक लगा दी तथा इक्तादारों द्वारा फवाजिल या अतिरिक्त कर केंद्रीय कोष में जमा करने के उपाय किये।
  • सन् 1321 ई. को अपने पुत्र जौना खाँ को तेलंगाना (वारंगल) के शासक प्रताप रुद्रदेव के विरुद्ध अभियान के लिये भेजा। 1322 ई. में जौना खाँ ने वारंगल एवं 1323 ई. में मदुरा के पांडय पर अधिकार कर लिया। उसने तेलंगाना का नाम बदलकर सुल्तानपुर रखा।
  • गयासुद्दीन तुगलक के काल में संपूर्ण दक्षिण भारत को दिल्ली सल्तनत में शामिल कर लिया गया तथा उसे कई प्रशासनिक भागों में बाँट दिया गया।
  • सुल्तान गयासुद्दीन का अंतिम सैन्य अभियान बंगाल का था। सन् 1325 ई. में बंगाल की अव्यवस्था को समाप्त करने के लिये उसने यह अभियान किया और वह सफल रहा जिसकी खुशी में जौना खाँ ने दिल्ली के समीप अफगानपुर (तुगलकाबाद) में एक स्वागत समारोह का आयोजन किया जहाँ लकड़ी के बने मंडप के गिर जाने से गयासुद्दीन तुगलक की मृत्यु हो गई।
  • इब्नबतूता ने इस घटना को जौना खाँ का षड्यंत्र बताया, परंतु बरनी एवं फरिश्ता ने इसे एक दुर्घटना बतलाया, क्योंकि गयासुद्दीन ने जौना-खाँ को उत्तराधिकारी घोषित कर रखा था।
  • गयासुद्दीन तुगलक एक सफल शासक था, परंतु सूफी संत निजामुद्दीन औलिया से विवाद के कारण उसके शासनकाल में एक धब्बा लग जाता है। बंगाल अभियान के दौरान ही उसने निज़ामुद्दीन औलिया को संदेश भिजवाया था कि या तो दिये गए धन को वापस करें अथवा दिल्ली छोड़ दें।
  • उसके संदेश के जवाब में औलिया ने कहा था- “हुनूजे दिल्ली दूरस्त" अर्थात् हुजूर दिल्ली अभी दूर है और वास्तव में हुआ भी वही गयासुद्दीन के दिल्ली आने से पूर्व ही उसका देहांत हो गया।

मुहम्मद-बिन-तुगलक (1325-1351 ई.)

गयासुद्दीन तुगलक की मृत्यु के बाद जौना खाँ 1325 ई. में मुहम्मद बिन तुगलक के नाम से सुल्तान बना। उसके शासनकाल के विषय में जानकारी के दो महत्त्वपूर्ण स्रोत हैं: जिआउद्दीन बरनी की तारीख-ए-फिरोज़शाही तथा इब्नबतूता का यात्रा वृत्तांत 'रेहला'। इब्नबतूता ने मुहम्मद तुगलक के काल में ही सन् 1333 ई. में भारत की यात्रा की थी। वह अफ्रीका के मोरक्को का निवासी था। सुल्तान ने उसे दिल्ली का काजी नियुक्त किया था तथा 1342 ई. में उसे अपना राजदूत बनाकर चीन भेजा था।
मुहम्मद बिन तुगलक एक महत्त्वाकांक्षी एवं दूरदर्शी शासक था, उसने जहाँ एक ओर साम्राज्य विस्तार की नीति को जारी रखा, वहीं दूसरी ओर कई नवीन प्रयोग भी करता रहा।
मुहम्मद तुगलक की गृह नीति एवं विभिन्न योजनाएँ गयासुद्दीन तुगलक की मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र जूना खाँ मुहम्मद बिन तुगलक के नाम से 1325 ई. में सिंहासन पर बैठा। मुहम्मद तुगलक एक कठोर परिश्रमी एवं नवीन अन्वेषण करने वाला महत्त्वाकांक्षी सुल्तान था। उसे नवीन प्रयोग करने एवं नई-नई योजनाएँ बनाने का शौक था। परन्तु दुर्भाग्य से उसे अपनी विभिन्न योजनाओं में असफलता का मुँह देखना पड़ा।

प्रमुख विद्रोह (Major revolt)
  • मुहम्मद तुगलक के सुल्तान बनने के तुरंत बाद सन् 1326-27 ई. में सागर के गवर्नर बहाउद्दीन गुरुशस्प ने विद्रोह किया तथा उसी समय मुल्तान एवं सिंध के गवर्नर किश्लू खान ने भी विद्रोह कर दिया, लेकिन सुल्तान ने दोनों का दमन कर दिया। मुहम्मद तुगलक के समय दक्षिण में पहला सशक्त विद्रोह सन् 1335 ई. में माबर (मदूरा) में हुआ। सैयद एहसान शाह ने यह विद्रोह किया और स्वतंत्र मदुरै राज्य की स्थापना की। यहीं से मुहम्मद तुगलक के साम्राज्य का विघटन प्रारंभ हो गया।
  • सन् 1336 ई. में हरिहर-बुक्का नामक दो भाइयों ने कृष्णा नदी के दक्षिण में एक हिन्दू राज्य विजयनगर की स्थापना की। इन दोनों भाइयों को मुहम्मद तुगलक कांपिली विजय के दौरान बंदी बनाकर ले गया था और उन्हें दक्षिण में हो रहे विद्रोह को शांत करने के लिये भेजा, परंतु वे स्वयं को स्वतंत्र घोषित करते हुए एक नवीन राज्य विजयनगर के संस्थापक बन बैठे।
  • सन् 1338-39 ई. में बहराम खाँ के मृत्युपरान्त उसके एक पदाधिकारी मलिक फखरुद्दीन ने सुनारगाँव में तथा एक अन्य पदाधिकारी अलाउद्दीन ने लखनौती में स्वतंत्र राज्य की घोषणा कर दी, परंतु कुछ समय पश्चात् मलिक हाजी इलियास ने दोनों की हत्या कर स्वतंत्र बंगाल प्रांत की स्थापना की और सुल्तान शमसुद्दीन के नाम से शासक बना।
  • इस प्रकार इसी के समय बंगाल दिल्ली सल्तनत के नियंत्रण से पूर्णतः स्वतंत्र हो गया और दिल्ली सल्तनत के पतन की शुरुआत हो गई।
  • वारंगल और द्वारसमुद्र ने भी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी और वहाँ के पुराने हिन्दू राजपरिवार के एक सदस्य कन्हैया को शासक बनाया गया।
  • सन् 1347 ई. में हसन गंगू नामक अमीर-ए-सदा ने स्वतंत्र बहमनी राज्य की स्थापना की और दौलताबाद में सुल्तान अलाउद्दीन बहमन शाह के नाम से गद्दी पर बैठा। इस प्रकार मुहम्मद तुगलक के समय ही दक्षिण भारत से दिल्ली सल्तनत का अधिकार समाप्त हो गया।
  • सन् 1351 ई. में सिंध (थट्टा) में विद्रोह हुआ जिसे सुल्तान स्वयं दबाने गया और इसी क्रम में उसकी मृत्यु हो गई। उसकी मृत्यु पर बदायूँ कहता है कि "सुल्तान को उसकी प्रजा से और प्रजा को सुल्तान से मुक्ति मिल गई।"

मुहम्मद बिन तुगलक का व्यक्तित्व

मुहम्मद तुगलक के व्यक्तित्व के विषय में विद्वानों में मतभेद है- समकालीन विद्वान एवं लेखक इसामी के अनुसार वह एक निरंकुश एवं विधर्मी शासक था। बरनी के अनुसार उसमें विपरीत तत्त्वों का मिश्रण था तथा उसने सुल्तान को दुष्ट एवं दयालु कहा। एलफिन्स्टन का कहना था कि उसमें पागलपन के कुछ अंश थे। परंतु इब्नबतूता उसकी प्रशंसा करते हुए कहता है कि उसने उच्च शिक्षा प्राप्त की, उसे अरबी, फारसी, गणित, नक्षत्र-विज्ञान, भौतिक, तर्क एवं चिकित्सा शास्त्र का भी अच्छा ज्ञान था।
उसने अपनी गृह-नीति के अन्तर्गत निम्नलिखित योजनाएँ शुरू की-

मुहम्मद तुगलक की गृह नीति एवं विभिन्न योजनाएँ

दोआब में कर वृद्धि (1326-27 ई.)

कृषि-सुधार की योजना

राजधानी परिवर्तन (1326-27 ई.)

सांकेतिक मुद्रा का प्रचलन (1329-30 ई.)

खुरासान विजय की योजना

कराचिल पर आक्रमण (1337-38 ई.)


1. दोआब में कर वृद्धि (1326-27 ई.)
मुहम्मद तुगलक ने सर्वप्रथम दोआब में कर-वृद्धि करने का निश्चय किया। दोआब में कर-वृद्धि के निम्नलिखित कारण थे-
  • दोआब का उपजाऊ प्रदेश होना- गार्डनर ब्राउन के अनुसार दोआब साम्राज्य का सबसे अधिक उपजाऊ तथा धन-सम्पन्न प्रदेश था। अतः यहाँ से अधिक कर वसूल किया जा सकता था।
  • रिक्त राजकोष को भरने हेतु धन की आवश्यकता- सुल्तान को रिक्त राजकोष को भरने के लिए धन की आवश्यकता थी, जो दोआब में अधिक कर लगा कर पूरी की जा सकती थी।
  • विद्रोही लोगों को दण्डित करना- बरनी के अनुसार यह कर दोआब के विद्रोही लोगों को दण्ड देने के लिए लगाया गया था।
  • सैन्य-शक्ति बढ़ाने आदि के लिए विपुल धन की आवश्यकता- सुल्तान को सेना की शक्ति को बढ़ाने तथा अन्य महत्त्वपूर्ण योजनाओं को लागू करने के लिए विपुल धन की आवश्यकता थी। यह धन दोआब से प्राप्त हो सकता था।
जहाँ तक दोआब में कर-वृद्धि की मात्रा का प्रश्न है, इस पर विद्वानों में तीव्र मतभेद है। बरनी के अनुसार दोआब में दस से बीस गुना करों में वृद्धि की गई। बदायूँनी के अनुसार कर में दोगुनी वृद्धि की गई।
डॉ. आर.पी. त्रिपाठी का मत है कि यह कर-वृद्धि सम्भवतः पाँच से दस प्रतिशत तक की गई। डॉ. ए. एल. श्रीवास्तव का कथन है कि “संभवतः सुल्तान का उद्देश्य पाँच से दस प्रतिशत तक आय में वृद्धि करना था और इसके लिए वह भूमि-कर नहीं, बल्कि मकानों, चरागाहों आदि अन्य कर बढ़ाना चाहता था।"
मुहम्मद तुगलक ने इन बढ़े हुए करों को कठोरतापूर्वक वसूल करने के आदेश दे दिये। परन्तु दुर्भाग्यवश इसी समय दोआब में भीषण अकाल पड़ गया जिससे किसानों की दशा दयनीय हो गई। परन्तु अकाल के बावजूद राजस्व कर्मचारियों ने कर वसूल करने का कार्य जारी रखा और लोगों पर अत्याचार किये। इससे किसानों में असन्तोष उत्पन्न हुआ तथा वे अत्याचारों से बचने के लिए अपने खेत व गाँव छोड़कर जंगलों में भाग गये। इससे क्रुद्ध होकर सुल्तान ने विद्रोहियों को कठोर दण्ड दिये
जब सुल्तान को दोआब के अकाल तथा जनता की दयनीय दशा के बारे में जानकारी प्राप्त हुई, तो उसने किसानों को हल, बीज, पशु आदि खरीदने के लिए ऋण दिया तथा सिंचाई के लिए कुँए और तालाब खुदवाये परन्तु इनसे कोई विशेष लाभ नहीं हुआ, क्योंकि ये सहायता कार्य बहुत देर से शुरू किये गये थे। इस प्रकार दोआब में कर-वृद्धि की योजना असफल हो गई। इसके फलस्वरूप हजारों किसान उजड़ गए। सुल्तान को इससे बहुत आर्थिक हानि उठानी पड़ी और इससे सुल्तान की बहुत बदनामी हुई।

दोआब में कर-वृद्धि की योजना की समीक्षा- दोआब में जो कर-वृद्धि की गई थी, वह अधिक नहीं थी परन्तु दुर्भाग्य से यह कर-वृद्धि ऐसे समय पर की गई, जब दोआब में भीषण अकाल फैला था। यदि सुल्तान अकाल प्रारम्भ होते ही बढ़े हुए करों की वसूली के कार्य को स्थगित कर देता और पीड़ित लोगों की सहायता के लिए तुरन्त आवश्यक कदम उठाता, तो जनता को इतने अधिक कष्टों का सामना नहीं करना पड़ता। परिस्थितियाँ तथा सुल्तान दोनों ही इस योजना की असफलता के लिए उत्तरदायी थे।

2. कृषि-सुधार की योजना
मुहम्मद तुगलक ने कृषि-सुधार की एक नवीन योजना बनाई। उसने कृषि-विभाग (दीवान-ए-कोही) की स्थापना की तथा कृषि-मंत्री (अमीर-ए-कोही) की नियुक्ति की। अमीर-ए-कोही के अधीन 100 शिकदार नियुक्त किये गए। कृषि-योग्य भूमि का विस्तार करना इस विभाग का प्रमुख उद्देश्य था। इस कार्य के लिए पहले 60 वर्गमील का भू-क्षेत्र चुना गया और उसको उपजाऊ बना कर उसमें बारी-बारी से विभिन्न फसलें बोई गई। इस योजना के अन्तर्गत सरकार ने दो वर्ष में 70 लाख टंके खर्च किये।
परन्तु सुल्तान की कृषि-सुधार की यह योजना विफल हो गई। इस योजना की असफलता के निम्नलिखित कारण थे-
  • इस प्रयोग के लिए चुनी गई भूमि उपजाऊ नहीं थी।
  • इस योजना के लिए निर्धारित तीन वर्ष की अवधि बहुत कम थी।
  • इस योजना के लिए निर्धारित धन का दुरूपयोग किया गया। भ्रष्ट कर्मचारी अधिकांश धन डकार गए।
  • सुल्तान ने इस योजना की ओर विशेष ध्यान नहीं दिया।
डॉ. अवध बिहारी पाण्डेय के अनुसार, "सुल्तान ने कृषि की दशा सुधारने तथा राज्य की आय बढ़ाने के लिए जो उद्योग किए, वे प्रकृति के कोप, कर्मचारियों के विश्वासघात तथा जनता के अविश्वास के कारण सफल नहीं हुए।"

3. राजधानी परिवर्तन (1326-27 ई.)
मुहम्मद तुगलक की एक अन्य महत्त्वपूर्ण योजना राजधानी परिवर्तन की थी। उसने दिल्ली के स्थान पर देवगिरी (दौलताबाद) को राजधानी बनाने का निश्चय किया।

राजधानी परिवर्तन के कारण
दिल्ली के स्थान पर देवगिरी को राजधानी बनाने के निम्नलिखित कारण थे-
  • देवगिरी का महत्त्व- बरनी के मतानुसार साम्राज्य के केन्द्र में होने के कारण देवगिरी को राजधानी बनाने का निश्चय किया।
  • मंगोलों के आक्रमण से सुरक्षा- कुछ विद्वानों के मतानुसार मुहम्मद तुगलक ने देवगिरी को इसलिए राजधानी बनाने का निश्चय किया क्योंकि यह मंगोलों के आक्रमण से सुरक्षित थी।
  • दक्षिण में मुस्लिम संस्कृति का प्रसार- डॉ. मेंहदी हुसैन का कथन है कि मुहम्मद तुगलक दौलताबाद को मुस्लिम संस्कृति का केन्द्र बनाने के लिए उसे राजधानी बनाना चाहता था। डॉ. हबीबुल्ला का कथन है कि मुहम्मद तुगलक दक्षिण भारत में मुस्लिम धर्म एवं संस्कृति के विकास के लिए देवगिरी को राजधानी बनाना चाहता था।
  • दिल्ली के नागरिकों को दण्डित करना- इब्नबतूता का कथन है कि दिल्ली के नागरिक सुल्तान को गाली भरे पत्र लिखते थे। अतः सुल्तान ने उन्हें दण्डित करने के लिए देवगिरी को राजधानी बनाने का निश्चय किया। परन्तु अधिकांश इतिहासकार इब्नबतूता के कथन को स्वीकार नहीं करते।
  • योजना की असफलता- दौलताबाद पहुँचकर लोगों के कष्टों का अन्त नहीं हुआ। उन्हें अपना पैतृक घर छोड़ने के कारण बड़ा दु:ख था। दूसरी ओर साम्राज्य के उत्तरी भागों में अशान्ति एवं अराजकता फैल गई। अतः कुछ समय बाद ही सुल्तान ने दिल्ली को पुनः राजधानी बनाने का निर्णय किया और लोगों को वापस दिल्ली लौट जाने की आज्ञा दी। इस प्रकार सुल्तान की यह महत्त्वूर्ण योजना विफल हो गई।

राजधानी परिवर्तन के परिणाम
राजधानी परिवर्तन के निम्नलिखित परिणाम हुए-
  • अपार धन का व्यय- इस योजना को लागू करने में सुल्तान को अपार धन खर्च करना पड़ा। इससे राजकोष रिक्त हो गया।
  • जनता को कष्ट और असुविधाएँ- दिल्ली से दौलताबाद जाने और पुनः वहाँ से दिल्ली लौटने में जनता को अनेक कष्टों का सामना करना पड़ा और अनेक व्यक्ति मौत के मुँह में चले गए।
  • दिल्ली का उजड़ना- राजधानी परिवर्तन से दिल्ली काफी उजड़ गई। दिल्ली अपने पूर्व गौरव को काफी समय तक पुनः प्राप्त न कर सकी।
  • प्रजा में असन्तोष- इस योजना के कारण लोगों को अपार कष्ट उठाने पड़े थे। इससे जनता सुल्तान से से असन्तुष्ट हो गई और उसकी कटु आलोचना करने लगी।
यद्यपि राजधानी परिवर्तन की योजना विवेकपूर्ण तथा महत्त्वपूर्ण थी, परन्तु सुल्तान अपनी अदूरदर्शिता के कारण इसे सफलतापूर्वक लागू नहीं कर सका। यदि वह प्रारम्भ में केवल प्रमुख कार्यालयों तथा दरबारियों को दौलताबाद ले जाता तथा धीरे-धीरे अन्य लोगों को वहां बसाने का प्रयास करता, तो यह योजना असफल नहीं होती। इसके अतिरिक्त दौलताबाद को राजधानी बनाना भी उपयुक्त नहीं था। इस योजना में सुल्तान को अपनी प्रजा का सहयोग प्राप्त नहीं हुआ।

4. सांकेतिक मुद्रा का प्रचलन (1329-30 ई.)
सुल्तान ने सोने और चाँदी के सिक्कों के स्थान पर ताँबे और पीतल के सिक्के प्रचलित किये। सांकेतिक मुद्रा प्रचलन के निम्नलिखित कारण थे-
  • राजकोष का रिक्त होना- राजधानी परिवर्तन के भारी व्यय, कर वृद्धि की योजना की असफलता तथा सुल्तान द्वारा उदारतापूर्वक धन बांटने आदि के कारण कोष खाली हो गया था। अतः इस कारण सुल्तान को सांकेतिक मुद्रा प्रचलित करनी पड़ी।
  • साम्राज्य का विस्तार करना- सुल्तान एक विशाल साम्राज्य की स्थापना करना चाहता था। अतः साम्राज्य-विस्तार हेतु एक विशाल सेना तैयार करने के लिए सुल्तान को प्रचुर धन की आवश्यकता थी। इस कारण भी उसने सांकेतिक मुद्रा प्रचलित करने का निश्चय किया।
  • चाँदी का अभाव- गार्डनर ब्राउन का कथन है कि मुहम्मद तुगलक के शासन काल में भारत में ही नहीं, अपितु समस्त विश्व में चांदी का अभाव था। अतः सुल्तान ने चांदी के अभाव के कारण सांकेतिक मुद्रा चलाने का निश्चय किया।
  • सुल्तान की नवीन प्रयोगों में रूचि- मुहम्मद तुगलक को सिक्कों में सुधार और नवीन प्रयोग करने का बड़ा शौक था। उसने 'दीनार' नामक सोने का सिक्का तथा 'अदली' नामक चाँदी का सिक्का भी प्रचलित किया था। अतः उसने मुद्रा-प्रणाली में एक नवीन प्रयोग करने का निश्चय किया।
  • चीनी और फारसी शासकों का अनुकरण- तेरहवीं शताब्दी में चीन और फारस के शासकों ने अपने देशों में सांकेतिक मुद्राएँ प्रचलित की थीं। मुहम्मद तुगलक ने उनका अनुसरण करके सांकेतिक मुद्राएँ प्रचलित करने का निश्चय कर लिया।
उपर्युक्त कारणों से प्रेरित होकर मुहम्मद तुगलक ने तांबे तथा पीतल के सिक्कों को कानूनी घोषित कर दिया और मूल्य की दृष्टि से उन्हें सोने-चाँदी के सिक्कों के समान माना गया। सुल्तान ने तांबे और पीतल के सिक्कों का सोने-चाँदी के सिक्कों के समान सभी व्यवहारों में प्रयोग करने के आदेश दिए। परन्तु सुल्तान ने सरकारी टकसाल पर राज्य का एकाधिकार स्थापित रखने के लिए प्रभावशाली कदम नहीं उठाये। अतः लोगों ने घरों में बड़ी संख्या में ताँबे के जाली सिक्के बना लिए।
बरनी का कहना है कि "हिन्द का घर टकसाल बन गया और विविध प्रान्तों के हिन्दुओं ने लाखों, करोडों तांबे के सिक्के बना लिए।" परन्तु अनुमान है कि मुसलमानों ने भी जाली सिक्कों के निर्माण में हिस्सा लिया था। लोगों ने सोने-चाँदी के सिक्कों को छिपाकर घरों में रख लिया तथा राज-करों का भुगतान ताँबे के सिक्कों में करने लगे। विदेशी व्यापारी देश में भारतीय वस्तुएँ खरीदते समय ताँबे के सिक्कों का प्रयोग करते थे परन्तु अपना माल बेचते समय सोने-चाँदी के सिक्कों की माँग करते थे। इससे व्यापार चौपट हो गया और देश में अशान्ति एवं अव्यवस्था फैल गई।
अन्त में विवश होकर सुल्तान ने अपनी सांकेतिक मुद्रा की योजना को त्याग दिया। उसने आदेश दिया कि लोग तांबे और पीतल के सिक्के राजकोष में जमा करा दें तथा वहाँ से ताँबे के सिक्कों के बदले में सोने-चाँदी के सिक्के ले जायें। इसके परिणामस्वरूप राजकोष रिक्त हो गया।

सांकेतिक मुद्रा की योजना की असफलता के कारण 
सुल्तान की सांकेतिक मुद्रा की योजना की असफलता के निम्नलिखित कारण थे-
  1. मुहम्मद बिन तुगलक ने सरकारी टकसाल पर राज्य का एकाधिकार स्थापित नहीं किया, जिससे लोगों ने ताँबे-पीतल के जाली सिक्के बनाना शुरू कर दिया। 
  2. जनता सांकेतिक मुद्रा के महत्त्व को नहीं समझ सकी और इस योजना को सफल बनाने में सुल्तान को कोई सहयोग नहीं दे सकी। 
यद्यपि सांकेतिक मुद्रा के प्रचलन की योजना साहसपूर्ण और महत्त्वपूर्ण थी, परन्तु वह अपनी अदूरदर्शिता के कारण इस योजना को सफलतापूर्वक लागू नहीं कर सका। सुल्तान की यह गलती थी कि उसने सरकारी टकसाल पर राज्य का एकाधिकार स्थापित नहीं किया, जिससे लागों ने अपने घरों में ताँबे के जाली सिक्के बनाना शुरू कर दिया। इसके अतिरिक्त यह योजना समय से बहुत आगे थी। अतः जनता इस योजना के महत्त्व को समझ नहीं सकी और इस योजना को सफल बनाने में कोई सहयोग नहीं दे सकी।

5. खुरासान विजय की योजना 
खुरासान के कुछ असन्तुष्ट अमीरों ने मुहम्मद तुगलक के दरबार में शरण प्राप्त की थी। परन्तु इन अमीरों ने अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए सुल्तान को खुरासान पर आक्रमण करने के लिए प्रेरित किया। इस समय मंगोल-शासक तरमाशीरी भी खुरासान पर आक्रमण करने की योजना बना रहा था तथा उसे मिस्र के शासक ने सहयोग देने का आश्वासन दिया था।
अतः मुहम्मद तुगलक ने खुरासन पर आक्रमण करने का निश्चय कर लिया। उसने खुरासान की विजय के लिए 3,70,000 सैनिकों की एक विशाल सेना तैयार की और उसे एक वर्ष का अग्रिम वेतन भी दिया परन्तु इस योजना को लागू नहीं किया जा सका। इस योजना के कारण सुल्तान को काफी आर्थिक हानि उठानी पड़ी और सुल्तान की काफी बदनामी हुई। 
इस योजना के परित्याग का एक कारण यह था कि सुल्तान ने यह अनुभव किया कि खुरासन तथा भारत के बीच स्थित बर्फ से ढके हुए विशाल पर्वतों को पार करना तथा मार्ग के प्रदेशों की शत्रुतापूर्ण जनता से टक्कर लेकर खुरासान पर विजय प्राप्त करना अत्यन्त कठिन कार्य था। दूसरा कारण यह था कि मध्य एशिया की राजनीतिक स्थिति भी काफी बदल चुकी थी। मंगोल नेता अपदस्थ हो चुका था तथा मिस्र के शासक ने खुरासान के शासक से मित्रता कर ली थी। अतः सुल्तान ने खुरासन पर विजय प्राप्त करने की योजना का परित्याग कर दिया।

6. कराचिल पर आक्रमण (1337-38 ई.) 
कराचिल का हिन्दू राज्य हिमालय की तराई में स्थित आधुनिक कुमायूँ जिले में था। इब्नबतूता का कथन है कि मुहम्मद तुगलक के शासन-काल में चीन के शासकों ने हिमालय की तराई में स्थित हिन्दू-राज्यों की सीमाओं का अतिक्रमण किया था। इससे मुहम्मद तुगलक चिन्तित हुआ। अतः उसने कराचिल पर आक्रमण करने का निश्चय कर लिया ताकि वह अपने साम्राज्य की उत्तरी सीमाओं को सुरक्षित कर सके। वह हिमालय की तराई में स्थित हिन्दू-राज्यों पर अपना अधिकार स्थापित कर अपनी स्थिति को सुदृढ़ करना चाहता था। हाजी-उद-बीर का कथन है कि मुहम्मद तुगलक ने कराचिल की सुन्दर स्त्रियों को प्राप्त करने के उद्देश्य से कराचिल पर आक्रमण किया था, परन्तु मुहम्मद तुगलक के उच्च नैतिक चरित्र को देखते हुए हाजी-उद-बीर के कथन को स्वीकार नहीं किया जा सकता।
मुहम्मद तुगलक ने कराचिल पर आक्रमण करने के लिए खुसरो मलिक के नेतृत्व में एक लाख सैनिकों की विशाल सेना भेजी। खुसरो मलिक ने जिद्दा को जीत लिया। सुल्तान ने खुसरो मलिक को आदेश दिया था कि वह जिदा से आगे न बढ़े, परन्तु सुल्तान की आज्ञा का उल्लंघन करते हुए खुसरो मलिक ने तिब्बत की ओर जाना जारी रखा। शीघ्र ही वर्षा ऋतु प्रारम्भ हो गई तथा सेना दुर्गम पर्वतीय क्षेत्र में फंस गई। इस प्रकार पर्वतीय मार्ग की भीषण कठिनाइयों, वर्षा-ऋतु के आगमन, खाद्य पदार्थों की कमी, पहाड़ी लोगों के आक्रमण आदि के कारण मुस्लिम सेना को अनुसार केवल तीन सैनिक ही बचकर दिल्ली लौट सके।
दिल्ली की सेना के भीषण विनाश के लिए खुसरो मलिक उत्तरदायी था और इसके लिए सुल्तान को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। इस सैनिक अभियान के कारण मुहम्मद तुगलक की बहुत बड़ी सेना नष्ट हो गई और जनता में उसके विरूद्ध तीव्र असन्तोष उत्पन्न हुआ। फिर भी सुल्तान अपना राजनीतिक उद्देश्य प्राप्त करने में सफल हुआ। यद्यपि पर्वतीय राजा ने सुल्तान को कर देना स्वीकार कर लिया।

मुहम्मद तुगलक की योजनाओं की असफलता के कारण
मुहम्मद तुगलक की योजनाओं की असफलता के निम्नलिखित कारण थे
  • 1. हठी और उतावला सुल्तान- मुहम्मद तुगलक एक हठी और उतावला सुल्तान था। अपने हठी स्वभाव और उतावलेपन के कारण वह किसी भी योजना पर गम्भीरता से विचार-विमर्श नहीं करता था। वह अपनी योजनाओं को सम्पूर्ण होने से पहले ही उन्हें छोड़ दिया करता था। वह बिना पूरी तैयारी के योजनाओं को लागू करने में जुट जाता था जो उसकी असफलता का एक प्रमुख कारण था। 
  • 2. उग्र और क्रोधी- मुहम्मद तुगलक उग्र और क्रोधी था। जब लोग उसकी आज्ञाओं का उल्लघंन करते थे, तो वह बहुत उग्र और क्रोधी हो जाता था तथा लोगों को कठोर दण्ड दिया करता था। इससे लोगों में सुल्तान के प्रति तीव्र आक्रोश उत्पन्न हुआ। 
  • 3. धैर्य, संयम तथा दूरदर्शिता का अभाव- मुहम्मद तुगलक में धैर्य, समझ, सामान्य बुद्धि तथा दूरदर्शिता का अभाव था। वह अपनी योजनाओं के गुण-दोषों की विवेचना किये बिना उन्हें पूरा करने में जुट जाता था। वह परिस्थितियों के अनुसार आचरण नहीं करता था। उसमें अवसर को पहचानने तथा योग्य व्यक्तियों को अपना बनाकर उनसे सलाह लेने की क्षमता नहीं थी। 
  • 4. कठोर दण्ड नीति- अपनी निरन्तर असफलताओं से सुल्तान अपना धैर्य तथा सन्तुलन खो बैठा तथा साधारण अपराधों पर भी कठोर दण्ड देने लगा, वह साधारण अपराध पर भी मृत्यु दण्ड देने में संकोच नहीं करता था। अपने निर्दयतापूर्ण कार्यों से सुल्तान जनता में बदनाम हो गया तथा उसे जनता से सहयोग नहीं मिल सका। 
  • 5. मानव-चरित्र का पारखी न होना- मुहम्मद तुगलक में व्यक्तियों को परखने तथा उनकी योग्यता का सदुपयोग करने की क्षमता का अभाव था। अतः वह प्रशासन में योग्य व्यक्तियों की नियुक्ति नहीं कर सका। जिन लोगों पर उसने विश्वास किया, उन्हीं व्यक्तियों ने उसे धोखा दिया। उसके अधिकांश अधिकारी भ्रष्ट तथा स्वार्थी थे। अतः सुल्तान को अपनी योजनाओं में असफलता का मुँह देखना पड़ा। 
  • 6. उलेमा-वर्ग का विरोध- मुहम्मद तुगलक उदार विचारों का व्यक्ति था। उसमें संकीर्णता तथा धर्मान्धता नहीं थी। उसने उलेमा-वर्ग के हाथों की कठपुतली बनने से इंकार कर दिया और अपराधी पाये जाने पर उन्हें भी कठोर दण्ड दिया करता था। अतः कट्टरपंथी उलेमा सुल्तान से नाराज हो गए और उसका विरोध करने लगे।
  • 7. परामर्शदाताओं की उपेक्षा- मुहम्मद तुगलक एक निरंकुश एवं स्वेच्छाचारी सुल्तान था। उसे अपनी योग्यता तथा प्रतिभा पर इतना गर्व था कि वह अपने अमीरों, अधिकारियों आदि से परामर्श लेना अपमानजनक समझता था। परिणामस्वरूप उसे अपनी योजनाओं में घोर असफलता का सामना करना पड़ा। 
  • 8. प्रजा का असहयोग- सुल्तान को अपनी योजनाओं में अपनी प्रजा से सहयोग प्राप्त नहीं हुआ। सुल्तान के प्रति लोगों में अविश्वास बना रहा। उसकी राजधानी परिवर्तन और सांकेतिक मुद्रा की योजनाओं में उसकी प्रजा ने उसे सहयोग नहीं दिया जिसके फलस्वरूप ये योजनाएँ बुरी तरह से विफल हुई। 
  • 9. विदेशी अमीरों द्वारा विश्वासघात- यद्यपि सुल्तान ने विदेशी अमीरों को अपने दरबार में आश्रय दिया तथा उन्हें उच्च पदों पर नियुक्त किया, परन्तु उन्होंने सुल्तान को धोखा दिया। उन्होंने अवसर पाकर विद्रोह का झण्डा खड़ा कर दिया और उसके मार्ग में कठिनाइयाँ उत्पन्न की। 
  • 10. योजनाओं का समय से आगे होना- मुहम्मद तुगलक की कुछ योजनाएँ उस युग से बहुत आगे थीं और इससे लोग उसकी योजनाओं को भली-भाँति नहीं समझ सके। अतः जनता सुल्तान को सहयोग नहीं दे सकी। सांकेतिक मुद्रा की योजना समय से आगे होने के कारण विफल हो गई। 
  • 11. प्रतिकूल परिस्थितियाँ- प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण भी सुल्तान की कुछ योजनाएँ विफल हो गई। अकाल के कारण दोआब में कर-वृद्धि की योजना असफल हो गई। कराचिल-विजय की योजना में पर्वतीय मार्गों की कठिनाइयाँ, भीषण वर्षा आदि के कारण शाही सेना को विनाश-लीला का सामना करना पड़ा।

मुहम्मद तुगलक के कार्यों का मूल्यांकन 
दिल्ली के मध्यकालीन सुल्तानों में मुहम्मद-बिन-तुगलक का विशिष्ट स्थान है। वह एक महत्त्वाकांक्षी और आदर्शवादी शासक था। उसे 'असफलताओं का बादशाह' भी कहा जाता है। अनेक व्यक्तिगत एवं चारित्रिक गुणों के बावजूद वह दिल्ली सल्तनत का सबसे विवादास्पद सुल्तान था। अनेक विद्वानों ने उसे 'अंतर्विरोधों का विस्मयकारी मिश्रण', पागल या विक्षिप्त, रक्त पिपासु, 'आदर्शवादी और स्वप्निल', अधर्मी और अविश्वासी, 'परोपकारी एवं उदार', शासक माना है। निष्पक्ष रूप से यह कहा जा सकता है कि व्यक्तिगत रूप से सुल्तान में अनेक गुण थे। वह विद्याप्रेमी एवं कर्मठ व्यक्ति था। उसमें सैनिक एवं प्रशासनिक क्षमता भी थी। उसने धर्म और राजनीति को अलग करने का प्रयास किया एवं हिन्दू-मुसलमानों को समान दृष्टिकोण से देखा। वह सदैव जनता के हित की कामना करता था, इसलिए उसने नई-नई योजनाएं बनाई । यद्यपि उसकी योजनाएं विफल हो गई, तथापि इससे उन योजनाओं का महत्त्व कम नहीं हो जाता। उसकी सबसे बड़ी कमजोरी यही थी कि वह किसी भी कार्य को धैर्य के साथ नहीं करता था। उसकी असफलता के लिए बहुत सीमा तक उसका उतावलापन भी जिम्मेदार माना जा सकता है। उसे योग्य व्यक्तियों का साथ नहीं मिला । भाग्य ने भी उसे धोखा दिया। परिणामस्वरूप उसके राज्यकाल में ही साम्राज्य के विघटन की प्रक्रिया आरंभ हो गई। दिल्ली सल्तनत के विघटन के लिए बहुत हद तक मुहम्मद-बिन-तुगलक की नीतियां एवं उसके कार्य उत्तरदायी थे, परंतु उसे पागल, विक्षिप्त या आदर्शवादी शासक कहना उचित नहीं होगा। वस्तुतः उसके चरित्र में विरोधी गुणों का सम्मिश्रण था, जिससे वह असफल शासक सिद्ध हुआ।

मुहम्मद-बिन-तुगलक का राजत्व सिद्धांत 
मुहम्मद-बिन-तुगलक का राजत्व सिद्धांत दैवीय सिद्धांत पर आधारित था। उसका विश्वास था सुल्तान बनना ईश्वर की इच्छा है, इसलिए सुल्तान की आज्ञा ईश्वरीय आज्ञा है। अतः उसका पालन करना चाहिए। इस प्रकार उसका राजत्व सिद्धांत बलबन के राजत्व सिद्धांत के समान दिखाई पड़ता है।
शासन में सुल्तान के ऊपर कोई नहीं है। मंत्री, अधिकारी, उसके अनुगामी और कर्मचारी मात्र थे। उनमें से कोई शासन सत्ता में भाग लेने वाला नहीं बन सकता था। उसका विश्वास संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न सुल्तान में था। इस दृष्टि से वह अलाउद्दीन खिलजी की भांति दिखाई पड़ता है। वह जाति, जन्म और वंश के आधार पर अपनी प्रजा में विभेद करना नहीं चाहता था बल्कि राजकीय सेवाओं का आधार योग्यता को मानता था न कि कुलीनता को। उसने राजनीति को धर्म से अलग रखने का प्रयास किया और उलेमाओं को भी सामान्य प्रजा का अंग माना।
मुहम्मद बिन तुगलक ने अपने राजत्व सिद्धांत में बुद्धिवाद को आधार बनाया, जिसके तहत् उलेमाओं के कट्टरवादी दृष्टिकोण एवं सूफियों के विरक्तिवादी दृष्टिकोण से असहमति व्यक्त की। शासन में गैर तुर्कों के अतिरिक्त भारतीय मुसलमानों और हिन्दुओं को भी शामिल किया। इस तरह उसका राजत्व धर्मनिरपेक्ष स्वरूप से युक्त था। उसका राजनीतिक उद्देश्य विस्तारवादी था। अतः यह भारत में भूमि का एक भी ऐसा कतरा छोड़ने को तैयार नहीं था जो उसके नियंत्रण और आधिपत्य में न हो।

फिरोज तुगलक 

फिरोज तुगलक का जन्म 1309 ई. में हुआ था। वह सुल्तान गयासुद्दीन तुगलक के छोटे भाई रज्जब का पुत्र था। उसकी माता हिसार जिले में स्थित अबोहर के भट्टी राजपूत राजा रणमल की पुत्री थी। यह विवाह बलपूर्वक हुआ था। फिरोज को मुहम्मद तुगलक ने 'अमीर-ए-हाजिब' के महत्त्वपूर्ण पद पर नियुक्त किया था।
tughlaq-dynasty-tuglak-vansh
उसकी मृत्यु के बाद 1351 में फिरोज तुगलक उलेमा तथा अमीरों के आग्रह तथा सहयोग से सिंहासनारूढ़ हुआ। अगस्त, 1351 में उसने दिल्ली में प्रवेश किया और सिंहासन पर बैठा।

फिरोज तुगलक की शासन नीति तथा प्रशासनिक सुधार
फिरोजशाह तुगलक ने एक सच्चे इस्लामी शासक के आदर्श तक पहुँचने का प्रयत्न किया। उसने उलेमाओं की सलाह से इस्लाम के सिद्धान्तों के अनुसार शासन कार्यों का संचालन किया। उसने जो भी सुधार किये, उनमें उसने यह ध्यान रखा कि उन सुधारों से उसकी मुस्लिम प्रजा ही लाभान्वित हो सके। शासन के प्रत्येक कार्य में उसने शरियत का अनुसरण करने का प्रयत्न किया।

फिरोज तुगलक की शासन नीति तथा प्रशासनिक सुधार
  • राजस्व व्यवस्था
  • अनावश्यक करों को समाप्त करना 
  • जागीर प्रथा का विस्तार
  • सिंचाई व्यवस्था
  • उद्यान
  • उद्योग
  • सेना का प्रबन्ध
  • न्याय व्यवस्था
  • परोपकार के कार्य
  • दास प्रथा 
  • शिक्षा तथा साहित्य 
  • सार्वजनिक निर्माण कार्य
  • मौद्रिक सुधार 

1. राजस्व व्यवस्था
फिरोज तुगलक ने राजस्व व्यवस्था में महत्त्वपूर्ण सुधार किये। उसने भूमि-कर की व्यवस्था ठीक करने और राज्य की अनुमानित आय का विवरण तैयार करने के लिए हिसामुद्दीन को नियुक्त किया। हिसामुद्दीन ने 
राज्य की वार्षिक आय 6 करोड़ 85 लाख टंका निश्चित की। फिरोज तुगलक के सम्पूर्ण शासनकाल में भूमि-कर से मिलने वाली आय में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं करना पड़ा। डॉ. ए.एल. श्रीवास्तव का कथन है कि "फिरोज
तुगलक ने भूमि की नाप के आधार पर राजस्व निर्धारित करने की वैज्ञानिक प्रणाली त्याग दी। इस आधारभूत दोष के बावजूद लगभग स्थायी रूप से भूमि-कर निश्चित करना फिरोज की एक महान् सफलता थी और उसके लिए
उसे श्रेय मिलना चाहिए।" इसके अतिरिक्त सुल्तान ने राजस्व अधिकारियों और कर्मचारियों का वेतन बढ़ा दिए। जिन किसानों को तकाबी के रूप में ऋण दिए। गए थे, वे ऋण माफ कर दिए गए। सूबेदारों से वार्षिक भेंट लेने की प्रथा
समाप्त कर दी गई, क्योंकि उसका भार किसानों पर पड़ता था।

2. अनावश्यक करों को समाप्त करना
फिरोज तुगलक ने अनेक कष्टदायक एवं अनावश्यक करों को समाप्त कर दिया। उसने उन सभी करों को समाप्त कर दिया जो कि धार्मिक कानूनों के अनुसार नहीं थे। 'फुतुहात-ए-फिरोजशाही' के अनुसार सुल्तान ने 24 करों को समाप्त कर दिया, जिनमें मकान-कर और चारगाह-कर भी सम्मिलित थे। सुल्तान ने जनता पर उन्हीं करों को लगाया जिनका वर्णन कुरान में मिलता है। व्यापारिक करों में भी कमी कर दी गई।

सुल्तान ने कुरान के अनुसार चार कर लगाए
  • खराज (खराज भूमि-कर था)
  • खुम्स 
  • जकात 
  • जजिया।

3. जागीर प्रथा का विस्तार
फिरोज तुगलक ने जागीर प्रथा का विस्तार किया। उसने अधिकारियों को बड़े पैमाने पर वेतन के बदले जागीरें प्रदान कर दीं। यहाँ तक कि सैनिक अधिकारियों के साथ-साथ सैनिकों को भी वेतन के बदले जागीरें दे दी गईं। अफीफ के अनुसार कुछ अधिकारियों ने अपनी जागीरें साहूकारों को बेच दी। इससे जनता को काफी कष्ट उठाना पड़ता था क्योंकि साहूकार किसानों से इच्छानुसार भूमिकर वसूल करते थे। 

4. सिंचाई व्यवस्था
फिरोज ने कृषि की उन्नति के लिए सिंचाई की व्यवस्था की और पाँच बड़ी-बड़ी नहरें बनवाई। इनमें सबसे बड़ी नहर 150 मील लम्बी थी, जो यमुना नदी से निकल कर हिसार फिरोजा तक जाती थी। एक नहर सतलज नदी से निकलकर घग्घर तक जाती थी। तीसरी नहर माण्डवी तथा सिरमौर की पहाड़ियों से प्रारम्भ होकर हांसी तक जाती थी। चौथी नहर घग्घर से फिरोजाबाद तक जाती थी तथा पाँचवीं नहर यमुना से निकल कर फिरोजाबाद तक जाती थी। इन नहरों के निर्माण से कृषि की उपज में बहुत वृद्धि हुई तथा उससे राज्य की आय भी बढ़ी। नहरों के अतिरिक्त नदियों पर बांध बनाकर सिंचाई की व्यवस्था की गई। अनेक तालाब भी खुदवाये गये। सुल्तान ने सिंचाई तथा यात्रियों की सुविध के लिए कुँए भी खुदवाये।

5. उद्यान
फिरोज तुगलक ने दिल्ली के आस-पास 1200 बाग लगवाए। इन बागों में इतने फल पैदा होते थे कि इनसे सुल्तान को 1,80,000 टंका की वार्षिक आय होती थी।

6. उद्योग
फिरोज तुगलक ने 36 कारखाने स्थापित किये जिनमें विभिन्न प्रकार की वस्तुओं का निर्माण होता था। इन कारखानों में राजमहलों तथा राजकीय उपभोग में आने वाली वस्तुओं का निर्माण होता था। अधिकांश सामान सरकारी उपभोग में आता था, परन्तु जो अतिरिक्त सामान बचता था, उसे बेच दिया जाता था। इससे भी सरकार को कुछ आय होती थी।

7. सेना का प्रबन्ध
फिरोज की सैनिक व्यवस्था प्रशंसनीय नहीं थी। उसने जागीरदारी प्रथा को इसका आधार बनाया। उसने अधिकारियों तथा सैनिकों को वेतन के स्थान पर जागीरें देना आरम्भ कर दिया। सुल्तान ने सैनिक सेवा भी वंशानुगत कर दी। बूढ़े सैनिक अपने स्थान पर अपने पुत्र, दामाद या दास को भेज सकते थे। उसके पुत्र, दामाद अथवा गुलाम को सेना में भर्ती कर लिया जाता था। इस प्रकार सैनिक सेवा वंशानुगत कर दी गई। सुल्तान के पास केवल 80 अथवा 90 हजार घुड़सवारों की स्थायी सेना थी, शेष सेना अमीरों अथवा सूबेदारों द्वारा संगठित की जाती थी। सैनिकों का हुलिया नोट करने तथा घोड़ों को दागने की प्रथा त्याग दी गई। सैन्य-व्यवस्था में भ्रष्टाचार, घूसखोरी तथा बेईमानी का बोलबाला था। सुल्तान स्वयं रिश्वतखोरी को प्रोत्साहन देता था। सुल्तान ने 1363 ई. के बाद सैनिक अभियान बन्द कर दिये जिससे सैनिक आलसी तथा आराम-तलब हो गए। इस प्रकार फिरोज तुगलक के शासनकाल में सैन्य-व्यवस्था शिथिल, भ्रष्ट एवं दोषपूर्ण हो गई थी।

8. न्याय व्यवस्था
फिरोज की न्याय-व्यवस्था मुहम्मद तुगलक के समय की न्याय-व्यवस्था के समान कठोर न थी। फिरोज ने अंग-भंग का दण्ड बन्द कर दिया। प्राणदण्ड भी बन्द कर दिया गया। न्याय शरियत के अनुसार किया जाता था। कानून की व्यवस्था मुफ्ती करते थे। राजधानी का काजी सबसे बड़ा काजी होता था। न्याय में पक्षपात का बोलबाला था। अतः फिरोज के समय की न्याय व्यवस्था दोषरहित न थी।

9. परोपकार के कार्य
फिरोज तुगलक एक उदार एवं दयालु शासक था। उसने अपनी प्रजा की भलाई के लिए अनेक कार्य किये-
  1. सुल्तान ने 'दीवाने खैरात' की स्थापना की। निर्धन लोगों को प्रार्थना-पत्र भेजने पर सहायता दी जाती थी। इस दान-विभाग से हजारों गरीब मुस्लिम कन्याओं के विवाह करवाए गए। 
  2. सुल्तान ने दिल्ली में एक चिकित्सालय (दारूल शफा) की भी स्थापना की, यहाँ रोगियों को मुफ्त औषधियाँ और भोजन दिए जाने की व्यवस्था थी। 
  3. सुल्तान ने बेरोजगार लोगों के लिए एक रोजगार दफ्तर की स्थापना की। बेरोजगार लोगों को भिन्न-भिन्न विभागों में नौकरियाँ दी गई। अनेक शिक्षित लोगों को कारखानों में नियुक्त किया गया। वृद्धों की देखरेख के लिए पेंशन की समुचित व्यवस्था की गयी और इसके लिए दीवान-ए-इश्तिहाक नामक विभाग की स्थापना की।
इस प्रकार फिरोज का शासन-काल अपनी उदारता के कारण इतिहास में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है।

10. दास प्रथा
फिरोज के शासन काल में 1 लाख 80 हजार गुलाम थे। इन दासों की देखभाल करने के लिए एक पृथक् विभाग की स्थापना की गई, जिसे 'दीवान-ए-बन्दगान' कहते थे। लगभग 40 हजार दास शाही महलों में सुल्तान तथा उसके परिवार की सेवा में नियुक्त थे। शेष गुलामों को विभिन्न प्रान्तों में गवर्नरों के पास नियुक्ति के लिए भेज दिया गया। 12 हजार दास विभिन्न दस्तकारियों में प्रशिक्षित किए गए जिससे शाही व्यय में अनावश्यक वृद्धि हुई तथा कालान्तर में
इन दासों ने राजनीति में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया।

11. शिक्षा तथा साहित्य
फिरोज को शिक्षा तथा साहित्य से विशेष प्रेम था। उसने शिक्षा-प्रसार के लिए मदरसे तथा मकतब खुलवाये। उनमें योग्य शिक्षकों की नियुक्तियाँ की गई। विद्यार्थियों को छात्र-वृत्ति देने की भी व्यवस्था की गई। मदरसों में इस्लामी कानून/धर्मशास्त्रों तथा हदीस की शिक्षा दी जाती थी। सबसे बड़ा मदरसा दिल्ली में स्थापित था, जो 'मदरसा-ए-फिरोजशाही' कहलाता था। शिक्षा के अतिरिक्त उसके शासन-काल में साहित्य की भी आश्चर्यजनक उन्नति हुई। बरनी ने 'तारीखे फिरोजशाही' इसी समय लिखी थी। स्वयं फिरोजशाह ने अपनी आत्मकथा 'फुतुहात-ए-फिरोजशाही' लिखी थी। इसके अतिरिक्त अन्य साहित्यकारों ने भी रचनायें कीं। शम्से सिराज अफीफ ने 'तारीख-ए-फिरोजशाही' नामक ग्रन्थ की रचना की । संस्कत पस्तकों का अनवाद भी फिरोज के शासन काल में किया गया। इस प्रकार हम देखते
हैं कि शिक्षा तथा साहित्य के क्षेत्र में फिरोज के समय काफी उन्नति हुई।

12. सार्वजनिक निर्माण कार्य
फिरोज ने निर्माण कार्य में भी खास दिलचस्पी दिखाई। उसने कुछ नगरों को बसाया। इनमें फिरोजाबाद, हिसार, फतेहाबाद, फिरोजपुर तथा जौनपुर के नाम बहुत प्रसिद्ध हैं। उसने अशोक की दो लाटों को टोपरा तथा मेरठ से मंगवा कर दिल्ली में खड़ा करवाया। उसने अन्य अनेक कार्य किए जो कि विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। बरनी के कथानुसार 50 बांध, 40 मस्जिद, 30 शिक्षालय, 20 महल, 100 सराय, 30 झील, 100 औषधालय, 100 कब्रगाह, 5 मकबरे, 5 बावड़ी, 10 स्नानागार, 10 स्तम्भ, 40 कुँए तथा 150 पुल बनवाए थे। इसके अतिरिक्त उसने 1200 बाग लगवाए थे तथा 30 बागों का जीर्णोद्धार भी करवाया था। इस प्रकार फिरोज ने जनकल्याण की भावना को सामने रखकर शासन किया।

13. मौद्रिक सुधार
फिरोजशाह ने मौद्रिक सुधार भी किए। उसने नवीन सिक्कों का प्रचलन किया और मुद्रा अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित किया। उसने शषगनी नामक सिक्का चलाया जो 6 जीतल के बराबर था। उसने 1/2 एवं 1/4 जीतल के अद्धा एवं बिख चलाये।

फिरोजशाह तुगलक के कार्य

  • फिरोजशाह तुगलक ने कई नगरों की स्थापना की जिनमें फतेहाबाद, हिसार, फिरोज़पुर, जौनपुर व फिरोज़ाबाद प्रमुख थे।
  • कृषि उत्पादन में वृद्धि के लिये सिंचाई साधनों को सुदृढ़ किया। उसने दिल्ली एवं हरियाणा के क्षेत्रों में 11 नहरों का निर्माण करवाया। यमुना एवं सतलज नदी से कई नहरें निकलवाईं, जिनमें उलूगखानी नहर तथा राजवाही नहर प्रमुख थीं।
  • राजकीय आय में वृद्धि के लिये 36 कारखानों की स्थापना करवाई। उसे फलों के बगीचे लगाने में बड़ी रुचि थी इसलिये दिल्ली के आस-पास के क्षेत्रों में 1200 फलों के बगीचे लगवाए जिससे राज्य को 1,80,000 टंका आय प्राप्त हुई। उसने मेरठ तथा टोपरा से अशोक के दो स्तम्भों को दिल्ली के फिरोजाबाद में स्थापित करवाया।
  • फिरोज़शाह की शिक्षा एवं साहित्य में भी अभिरुचि थी उसने स्वयं अपनी आत्मकथा "फुतुहात-ए-फिरोज़शाही" की रचना की। भारतीय दर्शन एवं चिकित्सा संबंधी संस्कृत रचनाओं का फारसी में अनुवाद करवाया।

फिरोजशाह तुगलक के लोक-कल्याणकारी कार्य

विभाग

कार्य

दीवान-ए-बन्दगान

गुलाम व दासों की भर्ती एवं देखभाल।

दीवान-ए-खैरात

यह दान विभाग था। इसमें अनाथों, विधवाओं और गरीबों का पोषण एवं देखभाल करने की व्यवस्था थी।

दारूल शफा

यह नि:शुल्क चिकित्सालय था जहाँ रोगियों का नि:शुल्क इलाज होता था।

दीवान-ए-इस्तिहाक

यह पेंशन विभाग था जहाँ निर्धनों एवं वृद्धों को पेंशन दी जाती थी।

रोज़गार दफ्तर

यह विभाग बेरोज़गार लोगों को रोजगार दिलवाने का कार्य करता था।

लोक निर्माण विभाग

यह सभी सुल्तानों के मकबरों तथा कुतुबमीनार की मरम्मत कराने का कार्य करता था।


इस प्रकार फिरोजशाह तुगलक के कार्यों ने उसे एक लोक-कल्याणकारी शासक के रूप में स्थापित किया। कुछ इतिहासकार उसे सल्तनत काल का अकबर भी कहते हैं, परंतु उसके लगभग सारे कार्य धर्म से प्रेरित थे उसके सारे लाभ केवल मुस्लिमों तक ही सीमित थे जिससे सामाजिक असंतोष की भावना उत्पन्न हुई।
वहीं दूसरी ओर उसकी प्रशासनिक नीतियों ने राज्य के सैन्य आधार को कमजोर कर दिया, उसकी तुष्टीकरण की नीतियों से विद्रोह कम हो गए परंतु प्रशासन में उलेमाओं तथा अयोग्य लोगों का वर्चस्व बढ़ता गया जिसने साम्राज्य का पतन अवश्यंभावी बना दिया। सितम्बर 1388 ई. में फिरोजशाह तुगलक की मृत्यु हो गई, उसने अपने ज्येष्ठ पुत्र फतेह खाँ के पुत्र तुगलकशाह को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था।

फिरोजशाह तुगलक के उत्तराधिकारी

फिरोजशाह तुगलक की मृत्यु के बाद उसके उत्तराधिकारी दिल्ली सल्तनत पर ज़्यादा दिन तक शासन नहीं कर पाए, क्योंकि उसके उत्तराधिकारी अयोग्य साबित हुए। अमीरों एवं दासों के द्वारा सत्ता के लिये किये जाने वाले षड्यंत्र, उत्तराधिकार से संबंधित संघर्ष एवं वित्तीय संकट ने राज्य को कमज़ोर कर दिया। फिरोजशाह तुगलक के उत्तराधिकारियों में तुगलक शाह द्वितीय (1388-89 ई), अबूबक्र शाह (1389-90 ई.), मुहम्मदशाह (1390-94 ई.) और महमूदशाह (1394-1412 ई.) सम्मिलित थे। लेकिन न सुल्तान मुहम्मद और न ही उसका उत्तराधिकारी नासिरुद्दीन महमूद, महत्त्वाकांक्षी अमीरों और स्वतंत्र राजाओं पर नियंत्रण स्थापित कर पाए। दिल्ली के सुल्तान की सत्ता वस्तुत: दिल्ली के आसपास [शाहजहाँ की हुकूमत दिल्ली से लेकर पालम (दिल्ली के पास) तक] के कुछ क्षेत्रों तक सिमटकर रह गई।
महमूदशाह के शासनकाल में 1398-99 ई. में समरकंद के शासक तैमूर ने दिल्ली पर आक्रमण करके तुगलक साम्राज्य को तहस-नहस कर दिया। तैमूर के आक्रमण के समय महमूदशाह दिल्ली छोड़कर भाग गया। 1405 ई. में तैमूर की मृत्यु के बाद वह दिल्ली लौटा जहाँ पर उसने 1412 ई. तक शासन किया। महमूदशाह के शासनकाल में निम्न स्वतंत्र राज्यों की स्थापना हुई।

वर्ष

क्षेत्र

वंश

संस्थापक

1398

जौनपुर

शर्की वंश

मलिक उस शर्क

1401

गुजरात

मुजफ्फरशाही वंश

जफर खाँ या ख्वाजा जहाँ

1406

मालवा

हुसंगाशाही वंश

दिलावर खाँ


फिरोज शाह की धार्मिक नीति 
फिरोजशाह तुगलक के समय में राज्य की धार्मिक नीति में महत्त्वपूर्ण परिवर्तन हुआ। 1374-75 ई. में वह बहराईच के सालार मसूद गाजी की मजार पर प्रार्थना करने गया। इसके बाद उसकी नीति में परिवर्तन आया और वह संप्रदायवादी और प्रतिक्रियावादी बन गया। मुहम्मद बिन तुगलक ने धर्मनिरपेक्ष राज्य की स्थापना पर बल दिया था, परंतु उलेमा के प्रभाव में आकर फिरोजशाह ने धर्म तंत्र की स्थापना का प्रयास किया। वह अपने आपको सिर्फ कट्टर सुन्नी मुसलमानों का ही शासक मानता था। वह इस्लाम के नियमों का कड़ाई से पालन करता था और सादा एवं संयत जीवन व्यतीत करता था। गैर-सुन्नियों, शियाओं, सूफियों, महदवियों, मुजाहिदों एवं हिन्दुओं के प्रति उसने कठोर एवं अनुदार नीति अपनाई। उसकी धार्मिक असहिष्णुता की नीति के शिकार मुसलमान एवं हिन्दू दोनों ही बने। शियाओं पर अनेक अत्याचार किए गए। उनकी धार्मिक प्रथाएं बन्द करवा दी गई तथा उनकी पस्तकें जला दी गई। सफियों पर भी अत्याचार किए गए। सल्तान ने महदवी नेता रूकनुद्दीन की हत्या करवा दी। मुस्लिम स्त्रियों पर पर्दा कड़ाई से थोपा गया। उन्हें मजारों एवं दरगाहों पर भी जाने की अनुमति नहीं दी गई। हिन्दुओं के साथ उसने और अधिक अनुदार व्यवहार किया। उन्हें इस्लाम धर्म स्वीकार करने को बाध्य किया गया। हिन्दुओं के अनेक मंदिर नष्ट कर दिए गए, मंदिरों की मरम्मत पर पाबंधी लगा दी गई। हिन्दुओं के मेले, त्यौहारों पर भी रोक लगा दी गई। सुल्तान ने धार्मिक भावना से प्रेरित होकर अपने महल के सभी भित्ति-चित्र नष्ट करवा दिए, सोने-चाँदी के बर्तन गलवा दिए तथा रेशमी और जरी के वस्त्रों के उपयोग पर रोक लगा दी। शरीयत के नियमों के अनुसार सैनिकों को लूट के 1/5 भाग के स्थान पर 4/5 भाग देने का आदेश दिया गया। फिरोजशाह ने अनेक चुंगी कर समाप्त कर दिए। अपनी आत्मकथा में सुल्तान स्वयं कहता है कि उसने मालवा, सालेहपुर और गोहाना के नए हिन्दू मंदिरों को नष्ट किया। सुल्तान की धार्मिक असहिष्णुता की नीति से उलेमा संतुष्ट हुए, परंतु राज्य पर सुल्तान की धार्मिक नीतियों का विनाशकारी प्रभाव पड़ा।

तैमूर का आक्रमण 

तुगलककालीन मंगोल-आक्रमणों में सबसे अधिक प्रमुख है महमूदशाह के समय में मंगोल-नेता तैमूर का आक्रमण। उस समय दिल्ली की स्थिति अत्यंत डावाँडोल थी। दरबार षडयंत्रों एवं कुचक्रों का अखाड़ा बना हुआ था। सुल्तान की शक्ति और प्रतिष्ठा बिल्कुल नष्ट हो चुकी थी, राज्य सिमटकर अत्यंत संकुचित हो गया था। इस स्थिति का लाभ उठाकर तैमूर 1398-99 ई. में भारत पर आक्रमण किया। तैमूर एक महान विजेता एवं योद्धा था। अपनी सैनिक प्रतिभा के बल पर वह समरकंद का शासक बन बैठा। शीघ्र ही उसने संपूर्ण मध्य एशिया में अपनी सत्ता स्थापित कर ली। अब वह भारत-विजय की योजना बनाने लगा। तैमूर की आत्मकथा मलफुसात-ए-तैमूरी से ज्ञात होता है कि तैमूर के भारत पर आक्रमण करने का मुख्य उद्देश्य 'काफिरों' का उन्मूलन करना एवं मूर्ति-पूजा को समाप्त करना तथा 'गाजी' एवं 'मुजाहिद' का पद प्राप्त करना था। इसके अतिरिक्त तैमूर भारत पर विजय प्राप्त कर अपनी सैनिक महत्त्वाकांक्षाओं की पूर्ति भी करना चाहता था। इसके अतिरिक्त, भारत को लूटकर वह धन-संपदा भी प्राप्त करना चाहता था। भारत की तत्कालीन राजनीतिक स्थिति ने उसे आक्रमण करने को प्रेरित किया। 
1398 ई. में तैमूर भारत-विजय के अभियान पर निकल पड़ा। संपूर्ण सेना तेजी से दिल्ली की तरफ बढ़ी। मार्ग में पड़ने वाले राज्यों, नगरों, कस्बों, बस्तियों, यथा-तुलुबा, पाकपट्टन, दीपालपुर, भटनौर, सिरसुनिया, कैथल, फतेहाबाद और पानीपत को रौंदती, बस्तियों को लूटती, जलाती तथा निर्दोषों की हत्या करती हुई आंधी की तरह तैमूरी सेना दिल्ली के निकट आकर ठहर गई। जब खतरा सिर पर मँडराने लगा, तब महमूदशाह अपने वजीर मल्लू खाँ के साथ तैमूर का मुकाबला करने को बढ़ा। 17 दिसंबर, 1398 ई. को दिल्ली को निकट हुए युद्ध में तैमूर ने महमूद को बुरी तरह पराजित कर दिया। महमूदशाह और मल्लू खाँ दिल्ली को भाग्य-भरोसे छोड़कर भाग खड़े हुए।
सुल्तान के पलायन के पश्चात पूरी दिल्ली पर तैमूर का अधिकार हो गया। उसने बड़ी शान से नगर में प्रवेश किया। उसके आतंकों से परिचित दिल्लीवासी अपनी सुरक्षा के लिए भयभीत हो उठे। दिल्ली के प्रमुख निवासियों ने तैमूर से मुलाकात कर उसे धन भेंट किया एवं नगरवासियों को कष्ट नहीं देने तथा निर्दोषों पर अत्याचार नहीं करने का अनुरोध किया। परंतु व्यापारियों से हुए संघर्ष में जब कुछ तैमूरी सैनिक मारे गए, तब क्रोधवेश में आकर उसने 'कत्लेआम' का हुक्म दे दिया। तीन दिनों तक नगरवासियों पर अमानुषिक अत्याचार होते रहे। गैर-मुस्लिमों को धर्म-परिवर्तन के लिये बाध्य किया गया। करीब पंद्रह दिनों तक दिल्ली पर अधिकार जमाए रखने के पश्चात तैमूर लाहौर वापस आया। खिज्र खाँ को लाहौर, मुल्तान और दीपालपुर का सूबेदार नियुक्त कर 1399 ई. में तैमूर वापस समरकंद चला गया।
 
तैमूर के आक्रमण का प्रभाव 
तैमूर के भारत आक्रमण के परिणाम विनाशकारी सिद्ध हुए। इसने तुगलकों के शासन की इतिश्री कर दी। समूचे राज्य में अव्यवस्था एवं अराजकता की स्थिति व्याप्त हो गई। दिल्ली एवं अन्य जिस मार्ग से तैमूर आया और लौटा, उस मार्ग में पड़ने वाले निवासियों को भीषण कष्ट उठाने पड़े। फसलें चौपट हो गई, नगर एवं ग्राम उजड़ गए, हजारों निर्दोष मारे गए एवं गुलाम बनाए गए। सबसे अधिक दुर्दशा दिल्ली की हुई। इतिहासकार बदायूंनी लिखता है: “जो लोग बच गये थे, वे अकाल और महामारी के कारण मर गए। दो महीने तक तो दिल्ली में किसी पक्षी ने भी पर नहीं मारा।" दिल्ली सल्तनत की शक्ति और प्रतिष्ठा एवं दिल्ली का वैभव समाप्त हो गया। पूरी दिल्ली उजाड़ और वीरान हो गई।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post