शिवसमुद्रम जलप्रपात | shivsamudram jalprapat

शिवसमुद्रम् जलप्रपात

यह कर्नाटक राज्य में कावेरी नदी पर स्थित है। भारत का दूसरा सबसे ऊंचा जलप्रपात है। इस जलप्रपात की ऊँचाई 90 मीटर है। बैंगलोर से 138 कि.मी और मैसूर से 77.5 कि.मी की दूरी पर स्थित शिवसमुद्रम, कर्नाटक राज्य का एक प्रसिद्ध जलप्रपात है, जो राज्य के चुनिंदा खास पर्यनट स्थलों में गिना जाता है। इस झरने के नाम का शाब्दिक अर्थ 'शिव का सागर' है। यह बैंगलोर के निकटवर्ती सबसे लोकप्रिय झरनों में से एक है, जहां पर्यटक वीकेंड पर मौज मस्ती करने और हफ्ते भर की थकान उतारने के लिए आते हैं। यह एक खंडित झरना है, जिसमें से जल की कई धाराएं एकसाथ जमीन तक का अपना सफर तय करती हैं। यह खूबसूरत जलप्रपात कावेरी नदी से जल प्राप्त करता है। शिवसमुद्रम द्वीप कावेरी नदी को दो हिस्सों में विभाजित करता है जिससे दो झरनों का निर्माण होता है, एक गगनचुक्की है और दूसरा भाराचुक्की है। इस लेख के माध्यम से जानिए पर्यटन के लिहाज से यह जलप्रपात आपको किस प्रकार आनंदित कर सकता है। जानिए यहां आने का सही समय और महत्वपूर्ण जानकारी।
shivsamudram-jalprapat

जलप्रपात किसे कहते हैं?

जलप्रपात उस स्थल को कहते हैं जहां नदी का पानी पहाड़ की चट्टान से नीचे की भूमि पर गिरता है। अगर पानी सामान्य मात्रा में और कम ऊंचाई से भूमि पर गिरता है तो उसे जलप्रपात कहते हैं और अगर नदी का पानी अधिक मात्रा में और अधिक ऊंचाई से गिरता है तो उसे महा-जलप्रपात कहा जाता है।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post