भ्रष्टाचार का मापन | bhrashtachar ka mapan

भ्रष्टाचार का मापन

भ्रष्टाचार को मापना एक कठिन प्रक्रिया है, क्योंकि यह निरंतर नए रूपों में सामने आता रहता है तथा कई बार इसकी पहचान करना भी मुश्किल हो जाता है। किसी राष्ट्र में कितना भ्रष्टाचार है, इसके संबंध में आकलन ही किया जाता है क्योंकि इस संदर्भ में प्रामाणिक डेटा और साक्ष्य उपलब्ध नहीं हो पाते हैं।
भ्रष्टाचार मापन के संदर्भ में विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय संगठनों द्वारा कुछ निश्चित मापदंडों के आधार पर भ्रष्टाचार सूचकांक विकसित किये गए हैं। विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय संगठन प्रतिवर्ष वार्षिक वैश्विक सूचकांक जारी करते हैं। इनमें प्रमुख निम्नलिखित हैं-

भ्रष्टाचार बोध सूचकांक

यह सूचकांक जर्मनी स्थित एक अंतर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा वर्ष 1995 से प्रतिवर्ष जारी किया जाता है। इसमें विभिन्न देशों को भ्रष्टाचार के अधिकतम या न्यूनतम मापदंड पर रैंक प्रदान की जाती है। इस सूचकांक में किसी को भी पूर्ण रूप से भ्रष्टाचार मुक्त जैसा दर्जा नहीं दिया जाता बल्कि भ्रष्टाचार अधिकतम या न्यूनतम होने की सीमा पर रैंकिंग प्रदान की जाती है।

वैश्विक भ्रष्टाचार बैरोमीटर

वैश्विक भ्रष्टाचार सूचकांक का प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल द्वारा प्रतिवर्ष किया जाता है। यह सूचकांक मुख्य रूप से जनता की राय/जनमत के आधार पर बनाया जाता है।

रिश्वत दाता सूचकांक

रिश्वत दाता सूचकांक का प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा किया जाता है। इसका प्रकाशन वर्ष 1999 से लगातार किया जा रहा है। यह सूचकांक विभिन्न देशों की औद्योगिक कंपनियों के बीच व्यापार, लाभ एवं आपूर्ति प्रभावित करने के लिये बड़े पैमाने पर घूस के लेन-देन होने की स्थिति को बताता है।

सरकारी रक्षा संबंधी भ्रष्टाचार रोधी सूचकांक

सरकारी रक्षा संबंधी भ्रष्टाचार रोधी सूचकांक का प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा वर्ष 2013 से किया जा रहा है। यह रक्षा एवं सुरक्षा संस्थानों में भ्रष्टाचार के जोखिम को नियंत्रित करने के लिये संस्थागत एवं अनौपचारिक नियंत्रणों के अस्तित्व, प्रभाव और प्रवर्तन का मूल्यांकन करता है।

राजस्व पारदर्शिता संवर्धन (Promoting Revenue Transparency)
इसका प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा किया जाता है। यह विभिन्न तेल और गैस कंपनियों के राजस्व एवं साझेदारी देख-रेख के संदर्भ में पारदर्शिता रिपोर्ट से संबंधित है। इन कंपनियों में पारदर्शिता का मूल्यांकन मुख्य रूप से तीन क्षेत्रों-भ्रष्टाचार विरोधी कार्यक्रमों, संगठनात्मक प्रकटीकरण और वित्तीय तथा तकनीकी डेटा के राष्ट्र स्तर पर प्रकटीकरण से संबंधित है।

वैश्विक सत्यनिष्ठा रिपोर्ट (Global Integrity Report)
यह रिपोर्ट 'ग्लोबल इंटीग्रिटी' नामक गैर-सरकारी संगठन द्वारा प्रतिवर्ष जारी की जाती है। यह रिपोर्ट भ्रष्टाचार विरोधी संस्थाओं और दुनिया भर की अन्वेषण एजेंसियों के लिये एक महत्त्वपूर्ण मार्गदर्शिका है, जिसका उद्देश्य नीति निर्माताओं, अधिवक्ताओं. पत्रकारों और नागरिकों को उन क्षेत्रों की पहचान कराने से है, जहाँ सार्वजनिक क्षेत्र के भीतर भ्रष्टाचार होने की अधिक संभावना है। यह रिपोर्ट भ्रष्टाचार विरोधी कानूनी ढाँचे और उसके व्यावहारिक कार्यान्वयन के मूल्यांकन से संबंधित है।

विश्वव्यापी शासन संकेतक (Worldwide Governance Indicators)
विश्वव्यापी शासन संकेतक (WGI) का प्रकाशन विश्व बैंक द्वारा किया जाता है। यह विभिन्न देशों और क्षेत्रों के लिये समग्र और व्यक्तिगत प्रशासन संकेतक से संबंधित है तथा शासन के निम्नलिखित छः आयामों के लिये रिपोर्ट करता है
  1. आवाज़ और जवाबदेही (Voice and Accountability)
  2. राजनीतिक स्थिरता एवं हिंसा का अभाव (Political stability and absence of violence)
  3. शासकीय प्रभावशीलता (Government Effectiveness)
  4. विनियामक गुणवत्ता (Regulatory Quality)
  5. कानून/विधि का नियम (Rule of Law)
  6. भ्रष्टाचार का नियंत्रण (Control of Corruption)
ये समग्र संकेतक औद्योगिक और विकासशील देशों में बड़ी संख्या में उद्यम, नागरिक और विशेषज्ञों के अध्ययन को जोड़ते हैं। ये विभिन्न प्रकार के सर्वेक्षण संस्थानों, थिंक टैंक, गैर-सरकारी संगठनों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और निजी क्षेत्र की कंपनियों द्वारा तैयार किये गए स्रोतों के आधार पर जाँचे जाते हैं।

रक्षा क्षेत्र की कंपनियों का भ्रष्टाचार विरोधी सूचकांक (Anti Corruption Index of defense sector companies)
रक्षा क्षेत्र की कंपनियों का भ्रष्टाचार विरोधी सूचकांक रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में भ्रष्टाचार की आपूर्ति पक्ष का मापन करता है। इसे पहली बार वर्ष 2012 में प्रकाशित किया गया था। इसका प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा किया जाता है।

अफ्रीकन शासन पर इब्राहिम सूचकांक (Ibrahim Index on African Governance-IIAG)
अफ्रीकन शासन पर इब्राहिम सूचकांक अफ्रीकी देशों में शासन की गुणवत्ता का वार्षिक आकलन प्रदान करता है। यह सूचकांक मोहम्मद इब्राहिम फाउंडेशन द्वारा वर्ष 2007 से प्रतिवर्ष जारी किया जाता है। अफ्रीकी शासन पर इब्राहिम सूचकांक (IIAG) चार मुख्य संकल्पनात्मक श्रेणियों के अंतर्गत प्रगति का मूल्यांकन करता है
  1. सुरक्षा और कानून का नियम (Safety and Rule of Law)
  2. भागीदारी और मानवाधिकार (Participation and Human Rights)
  3. सतत् आर्थिक अवसर (Sustainable Economic Opportunity)
  4. मानव विकास (Human Development)

ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल (Transparency International)
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल या अंतर्राष्ट्रीय पारदर्शिता एक अंतर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी एवं गैर-लाभकारी संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1993 में जर्मनी में हुई। ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल का मुख्यालय बर्लिन में स्थित है। यह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न देशों की सरकार, वाणिज्यिक कंपनियों एवं कॉर्पोरेट द्वारा किये जाने वाले भ्रष्टाचार की निगरानी करता है। ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल सत्ता, रिश्वतखोरी और गुप्त सौदों के दुरुपयोग को रोकने के लिये सरकारों, व्यवसायों और नागरिकों के साथ मिलकर काम करता है। ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल की स्थापना भ्रष्टाचार रोकने के लिये प्रतिबद्ध व्यक्तियों के एक समूह द्वारा की गई थी। लॉरेंस कॉकक्रॉफ्ट, पीटर कंजे, पीटर ईगेन, फ्रिट्ज हेमैन, माइकल हर्शमैन, कमाल हुसैन, गेरी पैराफिट, जेरेमी पोप, रॉय स्टेसी और फ्रैंक वोगल इसके संस्थापक सदस्य हैं।

ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के मूल्य, दृष्टिकोण एवं मिशन
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल का मिशन भ्रष्टाचार को रोकना तथा समाज एवं सभी स्तरों और क्षेत्रों में पारदर्शिता, जवाबदेही और अखंडता को बढ़ावा देना है। यह सरकार, राजनीति, नागरिक समाज और लोगों के दैनिक जीवन को भ्रष्टाचार से मुक्त होने का दृष्टिकोण/लक्ष्य रखता है। इसके आदर्श हैं- पारदर्शिता (Transparency), जवाबदेही (Accountability), अखंडता (Integrity), एकजुटता (Solidarity), साहस (Courage), न्याय (Justice), जनतंत्र (Democracy)
  • ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल में 100 से ज्यादा स्थानीय रूप से स्थापित स्वतंत्र संगठन अपने संबंधित देशों में भ्रष्टाचार से लड़ते हैं। ये छोटी रिश्वत से लेकर बड़े पैमाने पर होने वाले घोटालों एवं भ्रष्टाचार के खिलाफ स्थानीय विशेषज्ञों के साथ मिलकर कार्य करते हैं। चूँकि भ्रष्टाचार किसी एक सीमा में नहीं रहता इसलिये विभिन्न देशों में कार्यरत ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के स्थानीय संगठन बहुत अधिक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

संगठन
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल अंतर्राष्ट्रीय सचिवालय, बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स, व्यक्तिगत सदस्य, सलाहकार परिषद एवं अन्य स्वयंसेवकों की सहायता से ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के चार्टर द्वारा शासित होता है। अंतिम निर्णय संगठन की वार्षिक सदस्यता बैठक, जिसमें मान्यता प्राप्त स्थानीय संगठन एवं व्यक्तिगत सदस्य शामिल होते हैं, में लिये जाते हैं।
  • 'ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल सौंपी गई शक्ति का निजी लाभ के लिये दुरुपयोग' को भ्रष्टाचार के रूप में परिभाषित करता है।

भूमिका
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल 100 से अधिक देशों में 1993 से भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये दुनिया भर में कार्य कर रहा है। यह वर्ष 1995 से प्रतिवर्ष भ्रष्टाचार बोध सूचकांक प्रकाशित कर रहा है। यह सूचकांक विभिन्न देशों में आंतरिक एवं बाहरी स्रोतों से प्राप्त जानकारी और सर्वेक्षण के द्वारा बनाया जाता है। भ्रष्टाचार बोध सूचकांक निर्माण के लिये वर्ष 2012 से नवीन प्रणाली अपनाई गई है ताकि आने वाले वर्षों में इस सूचकांक के आधार पर वर्ष-दर-वर्ष तुलनात्मक अध्ययन किया जा सके। यह सूचकांक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व के विभिन्न राष्ट्रों में सार्वजनिक क्षेत्र में भ्रष्टाचार के स्तर का अध्ययन करने का एक महत्त्वपूर्ण मापदंड है।
इसके अतिरिक्त वैश्विक भ्रष्टाचार बैरोमीटर, रिश्वतदाता सूचकांक, सरकारी रक्षा संबंधी भ्रष्टाचार रोधी सूचकांक, राजस्व पारदर्शिता संवर्द्धन, रक्षा क्षेत्र की कंपनियों का भ्रष्टाचार विरोधी सूचकांक का प्रकाशन भी ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा किया जाता है। यह भ्रष्टाचार के मामलों की जाँच नहीं करता बल्कि भ्रष्टाचार निवारण के लिये उपायों एवं साधनों का विकास करता है, साथ ही इन उपायों के प्रयोग से भ्रष्टाचार अल्पतम करने में सहायता करता है।
  • ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल की यह सबसे बड़ी उपलब्धि है कि इसने भ्रष्टाचार पर वैश्विक सहमति एवं इसके विरुद्ध सभी को एकजुट किया। भ्रष्टाचार के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र अभिसमय वर्ष 2003 में पारित एवं लागू होने में भी इसकी प्रमुख भूमिका रही है। 
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल भ्रष्टाचार रोधी उपकरण विकसित करने और बढ़ावा देने के लिये सक्रियता से कार्य करता है। यह
भ्रष्टाचार का विरोध करने के लिये लोगों और संगठनों की क्षमता में वृद्धि करने का प्रयास करता है।

भ्रष्टाचार बोध सूचकांक 2018

यह सूचकांक ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के द्वारा जारी किया गया था। इसमें 180 देशों को रैंकिंग प्रदान की गई थी। इस वर्ष सूचकांक में डेनमार्क और न्यूजीलैंड क्रमशः पहले और दूसरे स्थान पर है तथा इस सूचकांक में भारत का स्थान 78वाँ रहा।

सत्यनिष्ठा समझौता
ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल ने भ्रष्टाचार निवारण हेतु इसे एक साधन के रूप में प्रारंभ किया है। इसका उद्देश्य एक समझौते के माध्यम से निजी कंपनियों या सरकारी क्षेत्र में ठेकों के लिये संभावित खरीदार, नीलामीकर्ता एवं विक्रेताओं के मध्य गलत या भ्रष्ट तरीके अपनाने से रोकना है। इस समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले दोनों पक्षों से सत्यनिष्ठापूर्ण व्यवहार करने एवं ईमानदार प्रक्रियाओं को अपनाने के लिये प्रतिबद्धता मांगी जाती है। ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भ्रष्टाचार रोकने हेतु भी उपाय सुझाता है।

एक टिप्पणी भेजें

Post a Comment (0)

और नया पुराने