Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf - रिच डैड पुअर डैड PDF DOWNLOAD

Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf

इस पुस्तक Rich Dad Poor Dad को लिखने का खास कारण लोगों को यह सिखाना था कि किस तरह पैसे की समझ से जिंदगी की सामान्य समस्याओं कोसुलझाया जा सकता है। वित्तीय प्रशिक्षण के बिना, हम उन्हीं घिसे-पिटे फॉर्मूलों के सहारे जिंदगी काट देते हैं, जैसे कड़ी मेहनत करो, बचाओ, उधार लो और बहुत ज़्यादा टैक्स चुकाओ। आज हमें ज़्यादा समझदारी की जरूरत है।
Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf डाउनलोड करनें के लिए निचे दिए बटन पर Click करें।


Name of Book रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf)
Author of Book रॉबर्ट टोरू कियोसाकी (Robert Kiyosaki)
Language of Book हिंदी (Hindi)
Total pages in ebook 225
Size of Ebook 5.07 MB
Download {getDownload} $text={DOWNLOAD} $size={Size 5.07 MB}

विषय-वस्तु
  • अध्याय एक : रिच डैड पुअर डैड
  • अध्याय दो : अमीर लोग पैसे के लिए काम नहीं करते
  • अध्याय तीन : पैसे की समझ क्यों सिखाई जानी चाहिए?
  • अध्याय चार : अपने काम से काम रखो
  • अध्याय पाँच : टैक्स का इतिहास और कॉरपोरेशन्स की ताकत
  • अध्याय छह : अमीर लोग पैसे का आविष्कार करते हैं
  • अध्याय सात : सीखने के लिए काम करें - पैसे के लिए काम न करें
  • अध्याय आठ : बाधाओं को पार करना
  • अध्याय नौ : शुरू करना
  • अध्याय दस : और ज्यादा चाहिए?
  • उपसंहार : केवल 7.000 डॉलर में कॉलेज की शिक्षा
Rich Dad Poor Dad in Hindi Pdf


मैं नीचे दी हई कहानी को एक ऐसी आर्थिक समस्या के अंतिम उदाहरण के रूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ, जिससे कई युवा परिवार आज जूझ रहे हैं। आप अपने बच्चों के लिए किस तरह अच्छी शिक्षा का इंतज़ाम कर सकते हैं और अपने खुद के रिटायरमेंट के लिए पैसा इकट्ठा कर सकते हैं? इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत के बजाय वित्तीय बुद्धि का प्रयोग किस तरह किया जा सकता है, यह इसी का उदाहरण है।
मेरा एक दोस्त एक दिन अपना दुखड़ा रो रहा था कि चार बच्चों की कॉलेज की शिक्षा के । लिए पैसों की बचत करना कितना कठिन था। वह हर महीने एक म्युचुअल फंड में 300 डॉलर जमा कर रहा था और अब तक उसने लगभग 12,000 डॉलर जमा कर लिए थे। उसे अपने बच्चों को कॉलेज भेजने के लिए 400,000 डॉलर की ज़रूरत थी। उसके पास इसे जमा करने के लिए 12 साल थे, क्योंकि उसका सबसे बड़ा बच्चा तब 6 साल का था।

यह 1991 की बात थी, और उस समय फ़ीनिक्स का रियल एस्टेट बाजार दुर्दशा में था। लोग-बाग अपना घर-बार बेचने में लगे थे। मैंने अपने इस सहपाठी कोसुझाया कि उसके पास म्यूचुअल फंड में जो पैसा जमा है, उसके कुछ हिस्से से वह एक घर खरीद ले| यह विचार उसे कुछ-कुछ जम गया और हम इस संभावना पर विचार करने लगे। उसकी मुख्य चिंता यह थी कि एक और घर खरीदने के लिए उसके बैंक में क्रेडिट नहीं था और उसके पास इतना नक़द नहीं था। मैंने उसे भरोसा दिलाया कि किसी प्रॉपर्टी को फ़ायनैंस करवाने के लिए बैंक के पास जाने के अलावा दूसरे रास्ते भी होते हैं।
हमने दो हफ्तो तक मकान खोजा, एक ऐसा घर जो हमारी सारी ज़रूरतों को पूरा करता हो। चुनने के लिए हमारे पास बहुत से घर थे, इसलिए हमें शॉपिंग में मज़ा भी बहुत आ रहा था। आखिरकार हमने एक अच्छे मोहल्ले में 3 बेडरूम और 2 बाथ वाला घर पसंद किया। मालिक उसी दिन घर बेचना चाहता था क्योंकि वह और उसका परिवार कैलिफोर्निया के लिए जा रहे थे जहाँ उसकी नौकरी उसका इंतज़ार कर रही थी।

वह 102, 000 डॉलर चाहता था, परंतु हमने उसे 79,000 डॉलर का ऑफर दिया। उसने तत्काल इसे मंजूर कर लिया। उस घर पर एक नॉन-क्वालिफाइंग लोन था, जिसका मतलब यह था कि कोई बिना नौकरी वाला व्यक्ति भी उसे बैंकर के अनुमोदन के बिना खरीद सकता था। मकान मालिक पर 72,000 डॉलर का क़र्ज़ बाकी था, इसलिए मेरे दोस्त को केवल बचे हुए 7,000 डॉलर का इंतज़ाम करना था, जो क़र्ज़ की रकम और खरीदने की राशि का अंतर था। जैसे ही मालिक ने घर खाली किया मेरे दोस्त ने मकान किराए पर उठा दिया। सारा खर्च निकालने के बाद जिसमें क़र्ज़ की किश्त भी शामिल थी, उसकी जेब में हर महीने 125 डॉलर आने लगे।
उसकी योजना थी कि वह मकान को 12 साल तक अपने पास रखे और हर महीने मिलने वाले अतिरिक्त 125 डॉलर का उपयोग करके जल्दी से जल्दी क़र्ज़ उतार दे। हमने अनुमान लगाया कि 12 सालों में क़र्ज़ का एक बड़ा भाग चुक जाएगा और जब उसका पहला बच्चा कॉलेज जाएगा तो उसके पास 800 डॉलर प्रतिमाह की आमदनी होगी। अगर उस मकान की क़ीमत बढ़ जाती है तो वह घर को बेच भी सकता था।

1994 में, फीनिक्स में रियल एस्टेट मार्केट अचानक बदल गया और उसे उसी घर के लिए उसके किराएदार ने 156,000 डॉलर का ऑफर दिया जो उस घर में रहता था और उससे प्रेम करने लगा था। एक बार फिर, उसने मझसे पछा कि इस बारे में मैं क्या सोचता हूँ और मैंने स्वाभाविक रूप से कहा कि वह इसे 1031 टैक्स-विहीन एक्सचेंज के आधार पर बेच दे।

अचानक ही, उसके पास लगभग 80,000 डॉलर अतिरिक्त आ गए। मैंने ऑस्टिन, टैक्सास में अपने एक और दोस्त को फोन किया जिसने इस अतिरिक्त धन को एक मिनी स्टोरेज फैसिलिटी में लगा दिया। तीन महीने के भीतर, उसे हर महीने लगभग 1,000 डॉलर के चेक मिलने लगे, जिसे वह कॉलेज म्यूचुअल फंड में जमा करने लगा जो अब बहुत तेज़ी से बढ़ रहा था। 1996 में, मिनी वेअरहाउस बिक गया और उसे बिक्री के हिस्से के रूप में लगभग 330,000 डॉलर का चेक मिला जो उसने एक नए प्रोजेक्ट में लगा दिए जिससे उसे हर महीने 3,000 डॉलर से ज़्यादा आमदनी होने लगी, जो उसके कॉलेज म्यूचुअल फंड में जाने लगी। उसे अब पूरा विश्वास है कि उसका 400,000 डॉलर का लक्ष्य आसानी से हासिल हो जाएगा और इसके लिए उसे शुरुआत में केवल 7,000 डॉलर और थोड़ी सी वित्तीय बुद्धि का इस्तेमाल करना पड़ा। उसके बच्चों को अब उतनी अच्छी शिक्षा मिल सकती है जो वे हासिल करना चाहते हैं और वह अपनी मूल पूँजी का प्रयोग अपने रिटायरमेंट के लिए कर सकता है जो अभी उसके सी कॉरपोरेशन में निवेश की हुई है। इस सफल निवेश रणनीति के कारण अब वह जल्दी ही रिटायरमेंट ले सकता है।

इस पुस्तक को पढ़ने के लिए धन्यवाद! मुझे आशा है कि इससे आपको कुछ समझ मिली होगी कि किस तरह पैसे की ताकत का इस्तेमाल किया जाए ताकि पैसा आपके लिए काम करे। आज, हमें बचे रहने के लिए भी पैसे की समझ की ज़रूरत है। यह विचार कि पैसा बनाने के लिए पैसे की ज़रूरत होती है वित्तीय रूप से नासमझ लोगों का विचार होता है। इसका यह मतलब नहीं है कि वे समझदार नहीं हैं। इसका मतलब केवल इतना है कि उन्होंने पैसा बनाने की कला अभी नहीं सीखी है।

पैसा केवल एक विचार है। अगर आप ज़्यादा पैसा कमाना चाहते हैं तो केवल अपने विचारों को बदल लें। हर आत्म-निर्मित व्यक्ति ने छोटे पैमाने पर एक विचार से शुरुआत की थी और बाद में इसे बड़ा किया था। यही निवेश के बारे में भी लागू होता है। शुरू करने के लिए केवल कुछ डॉलर ही काफी हैं और बाद में इनसे बड़ी रक़म बनाई जा सकती है। मैं ऐसे बहुत से लोगों से मिलता हूँ जो जिंदगी भर किसी बड़े सौदे के पीछे भागते रहते हैं या बड़े सौदे के लिए बहुत सा पैसा जुटाते रहते हैं, परंतु मेरी नज़र में यह मूर्खतापूर्ण है। ज़्यादातर मैंने नासमझ निवेशकों को अपना बड़ा अंडा एक ही समझौते में लगाते हुए और इस कारण उन्हें तेज़ी से बर्बाद होते हुए देखा है। वे अच्छे काम करने वाले हो सकते हैं, वे अच्छे नागरिक हो सकते हैं परंतु वे अच्छे निवेशक नहीं थे।

पैसे के बारे में शिक्षा और बुद्धि महत्वपूर्ण हैं। जल्दी शुरुआत करें कोई पुस्तक ख़रीदें। किसी सेमिनार में जाएँ। अभ्यास करें। छोटी शुरुआत करें। मैंने छह साल से भी कम समय में 5,000 डॉलर को 10 लाख डॉलर की संपत्ति में बदला है जिससे हर महीने 5,000 डॉलर का कैशफ़्लो आता है। परंतु मैंने यह बचपन से सीखा है। मैं आपको सीखने के लिए इसलिए प्रोत्साहित करता हूँ क्योंकि यह इतना मुश्किल नहीं है। दरअसल, एक बार आपको इसकी लत पड़ जाए तो आपके लिए यह आसान हो जाएगा।

मैं समझता हूँ कि मैंने अपना संदेश बहत स्पष्टता से पहँचा दिया है। आपके हाथ में क्या है, इस बात का निर्णय इस बात से होता है कि आपके दिमाग में क्या है। पैसा केवल एक विचार है। एक बहुत बढ़िया पुस्तक है 'थिंक एंड ग्रो रिच' *। इसका शीर्षक यह नहीं है कि कड़ी मेहनत कीजिए और अमीर बनिए। यह सीखें कि किस तरह आप पैसे से अपने लिए कठोर मेहनत करवा सकते हैं और आपकी जिंदगी किस तरह ज़्यादा आसान और सुखद हो सकती है। आज इस बात की ज़रूरत है कि आप सुरक्षात्मक खेल खेलने के बजाय स्मार्ट बनें और अपनी बुद्धि का प्रयोग करें।

एक टिप्पणी भेजें

Post a Comment (0)

और नया पुराने